A Complete Guide about “Different between Loan Restructuring and Loan Refinancing”

Loan Restructuring vs. Loan Refinancing: Understanding the Key Differences

यह post सही रिकॉर्ड स्थापित करेगा ताकि ये दो शब्द आपको कभी भ्रमित न करें! Loan Restructuring और Loan Refinancing meaning in hindi.

इस पोस्ट में हम जानेंगे की Loan Restructuring और Loan Refinancing के बीच क्या अंतर (difference) होता है।

हम कभी-कभी सोचते है की हमें लोन लेना चाहिए लेकिन फिर हम बाजार के उत्तार चढावो को देखते हुए इसके व्याज दर के वजह से छोड़ देते है लेकिन देखा जाये तो हम सब किसी न किसी काम करने के लिए लोन यानी उधार खरीदारी करते है।

अगर देखा जाये तो अक्सर बिज़नस लोन के आधार पर ही होता है, जो लोग इसकी महता को समझते है वो लोग अपने टूर के लिए लोन लेते है, किसी स्टार्टअप बिज़नस के लिए लोन लेते है, होम लोन जैसी अनेको सुविधाए अपनाते है।

हमें अपने जीवन में अक्सर किसी बड़े काम को करने के लिए ऋण लेना पड़ जाता है. आइये हम इसके कुछ और विन्दुओं पर भी प्रकाश डालते है।

ऋण (loan) शब्द को लगभग सभी लोग जानते है क्योकि यह इतना व्यापक हो चूका है लेकिन ऋण के दो सब्द है जिसके बारे में अधिकांश लोगो को पता ही नहीं है, इस पोस्ट हम येही जानेंगे और इसके विभिन्न पर प्रकाश डालते हुए व्याख्या भी करेंगे और ये बताएँगे की इन दो सब्दो के बिच क्या अंतर है।

सबसे पहले जानते है की –

What is Loan Restructuring in Hindi ? Loan Restructuring होता क्या है ?
अगर आप loan ले चुके है और अब लोन चुकाने का समय आ गया है तो ऐसा भी होता की योजना अवधी के समय तक हम उस राशी को जोड़ नहीं पाते है या कोई ऐसा स्थिति आ जाती है हम ऋण चुकाने में सक्षम नहीं होते है तो Loan Restructuring (ऋण पुनर्गठन) एक ऐसी उपाय है जिसे हम अंतिम रूप में इसका उपयोग कर सकते है या करते है. इसके लिए जिस वित्तीय संसथान से आप लोन ले रखे है तो उनके साथ बात चित करके उनके मौजूदा अनुबंध शर्तों को बदलकर ऋण का पुनर्गठन कर ऋण की भुगतान किया जाता है जो पूर्व में सहमत किस्तों के रूप में शामिल है।

 

What Is Loan Refinancing in Hindi? – Loan Refinancing क्या है ?

खैर, यह लगभग बेहतर शर्तों पर नया ऋण प्राप्त करने के बारे में है। यह नया ऋण, जिसके लिए एक नए अनुबंध की आवश्यकता होती है, ब्याज की कम दरें, कम दंड, कम देर से भुगतान शुल्क और लेनदेन लागत जैसे कई फायदों के साथ आता है। आपने शायद अपने massage और ईमेल में कुछ ‘टॉप-अप’ लोन ऑफर आये हुए देखे होंगे। अगर आप उसके आधार पर क्लेम करते है तो आपके Loan की राशी को Refinance कर दिया जाता है.

 

इतना ही नहीं, लोन की शर्तें उनकी परिभाषाएं, आवश्यक चेतावनियां… हमें लगता है कि हमने उन सभी को शामिल करते हुए अच्छा काम किया है। लेकिन यह अंत नहीं है। आपको हमें अपनी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने का मौका देना होगा, जो कि क्रेडिट स्कोर है। तो, आइए हम आपको बताते हैं कि कैसे Loan Restructuring और Loan Refinancing दोनों आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करते हैं।

 

हमारे शोध के आधार पर, जिस बात ने हमें सबसे अधिक चकित किया वह यह है कि पुनर्गठित (Restructuring) ऋणों को आमतौर पर ‘सेटल्ड’ या ‘राइट ऑफ’ श्रेणियों के तहत रिपोर्ट किया जाता है। इसके परिणामस्वरूप, ऋणदाता इसे विलफुल डिफॉल्टिंग मानते हैं, और इस प्रकार इसका क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। दूसरी ओर, ऋण पुनर्वित्त(Refinancing) का क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है क्योंकि भुगतान इतिहास आपके मूल ऋण को भुगतान के रूप में इंगित करता है।

 

अंतिम बात:

तो इस पोस्ट में हमने जाना की Loan Restructuring और Loan Refinancing में क्या अंतर है. हमने अलग-अलग ये भी जाना की Loan Restructuring और Loan Refinancing क्या होता है.

अब, यदि आप नकदी की कमी से गुजर रहे हैं (जो हमें उम्मीद है कि आप नहीं हैं) और तुरंत धन की अपेक्षा कर रहे है, तो बहुत से ऐसी वित्तीय संसथान है जहाँ पर कम से कम दस्तावेज़ीकरण, तुरंत मंज़ूरी, उसी दिन भुगतान, और पूरी तरह से ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत आप ऋण ले सकते है. यह सिर्फ मेरी राय है, ऋण के लिए अपना कदम उठाने से पहले सोच विचार कर ले.

1 thought on “A Complete Guide about “Different between Loan Restructuring and Loan Refinancing””

Leave a Comment